JYOTISH UPAY


चुम्बक से भी तेज़ पैसा खींचता है ये रुद्राक्ष एक बार पहन कर तो देखे 

FIVE Face Rudraksha

कालाग्नि रूद्र के रूप में पांच मुखी रुद्राक्ष को इस ब्रह्माण्ड में स्थापित किया गया है | पञ्च देवों की कृपा से परिपूर्ण यह रुद्राक्ष पञ्च तत्वों के दोषों का नाश करने में सहायक होता है | शिव के उपासकों को पांच मुखी रुद्राक्ष की माला अवश्य धारण करनी चाहिए | पञ्च देवों की कृपा होने के कारण से यह माला भगवान शिव को अत्यंत प्रिय है |

पांच मुखी रुद्राक्ष के लाभ

मन के रोगों को दूर करके मानसिक तौर पर स्वस्थ करने में यह रुद्राक्ष अति उत्तम फल प्रदान करता है | बढती आयु में जब समृधि का नाश होने लगता है और व्यक्ति अपने अर्जित ज्ञान को भूलने लगता है उस समय पांच मुखी रुद्राक्ष की माला को धारण करने मात्र से सभी परेशानियों में सफलता मिलनी प्रारंभ हो जाती है | महाशिवपुराण में तो अकाल मृत्यु से बचने के लिए इस माला पर महामृत्युंजय मंत्र का पाठ करने से अल्प मृत्यु से बचा जा सकता है | गलत जगहों पर जाने और गलत भोजन करने से प्राप्त हुए पापों को भी यह रुद्राक्ष माला कम करती है | इसका धारक भगवान शिव के गुण एवं धर्मों को प्राप्त कर सकता है | ब्रहस्पति देव पांच मुखी रुद्राक्ष का प्रतिनिधित्व करते हैं इसलिए इसको धारण करने से ब्रहस्पति देव की कृपा भी प्राप्त होती है | नौकरी व्यवसाय में सफलता व् गृहस्थ सुख में भगवान ब्रहस्पति की कृपा से इस माला को धारण करने पर यह सभी लाभ प्राप्त किए जा सकते हैं |

पांच मुखी रुद्राक्ष को धारण करने का मंत्र

यह अकेला रुद्राक्ष एैसा है जिसपे भगवान शिव के साथ भगवान विष्णु, भगवान गणेश, सूर्य भगवान व् शक्ति की प्रतीक माँ भगवती की असीम कृपा होती है इसलिए पांच मुखी रुद्राक्ष के कम से कम तीन दाने या पांच दाने या 108 दाने की माला अवश्य धारण करनी चाहिए |

FIVE Face Rudraksha